Poems

बावली धुन

रात थी सुबह हो गई
करवटों में भी नहीं मिली कोई जगह
यह ग़लत पतों की यात्रा है मेरे दोस्त
रास्ता भूलना है तो साथ हो लो,
शर्त यही कि भूलना होगा अपना नाम पहले,
वैसे डर किसे नहीं लगता लोगों के भूल जाने का
याद दिलाते रहें जनम जनमों तक
उन्हें अपनी अनुपस्थिति की।
कब होगी पहचान सपने और सच्चाई की
जागकर भी कैसे पता चले जवाब
जब सोया हो हर कोई आसपास
स्मृति की नींद में,
एक बावली धुन साथ है जो उतरती नहीं मन से।

 

 

(रेत का पुल, 2012)

Share this poem

view comments

Comments (0)

No comments yet - be the first:

Leave a comment